मां की डांट से गुस्साए 10वीं के छात्र ने मेट्रो ट्रेन के आगे लगाई छलांग, हालत गंभीर

दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्र ने सिर्फ इसलिए मेट्रो ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या की कोशिश की क्योंकि उसकी मां ने स्कूल देरी से जाने को लेकर उसे डांटा था. घटना बेंगलुरु की है. हालांकि इस घटना में मेट्रो चालक की सूजबूझ से 18 वर्षीय छात्र की जान तो बच गई लेकिन वह गंभीर रूप से घायल हो गया. फिलहाल उसका इलाज के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस में चल रहा है. बता दें कि पीड़ित छात्र के अभिभावक टेलर का काम करते हैं. घटना की जानकारी मिलने के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी घायल से मिलने अस्पताल पहुंचे. उन्होंने कहा कि यह बेहद दुखद है कि कुछ लोग छोटी बात पर भी इतना बड़ा कदम उठा लेते हैं.

गौरतलब है कि इस तरह का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले दिल्ली के इंद्रपुरी इलाके में एक ऐसा ही मामला सामने आया था. जहां सातवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्रा ने खुदकुशी कर ली थी. पुलिस के अनुसार छात्रा ने यह कदम तब उठाया था जब उसकी मां घर में मौजूद नहीं थी. मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी ने बताया था कि छात्रा ने अपनी हथेली पर सुसाइड नोट भी लिखा था. वहीं इससे पहले सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे 23 वर्षीय छात्र ने कुछ महीने पहले करोल बाग स्टेशन पर मेट्रो ट्रेन के सामने कूदकर कथित तौर पर खुदकुशी की कोशिश की थी.

डीएमआरसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि घटना ब्लू लाइन पर सुबह साढ़े नौ बजे हुई. युवक नोएडा जा रही मेट्रो के सामने कथित तौर पर कूद गया था. बताया जा रहा था कि युवक के माथे में चोट आई थी और उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निगरानी में रखा गया था. एक पुलिस अधिकारी ने बताया था कि मुंबई का रहने वाला युवक सिविल सर्विसेज की तैयारी करता था और पूर्वी दिल्ली के निर्माण विहार में अपने दोस्त के साथ रहता था. डीएमआरसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि ब्लूलाइन पर मेट्रो सेवा कुछ समय के लिए प्रभावित हुई थी लेकिन जल्द ही परिचालन सामान्य हो गया.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *